Home » Bazaar » Khabre Baazar Ki » Market Boom Is Likely To Continue.

बाजार में तेजी जारी रहने की है संभावना

एलेक्स मैथ्यूज | Jan 07, 2013, 01:17AM IST
बाजार में तेजी जारी रहने की है संभावना

फायदे का सौदा
निवेशक अल्पावधि के नजरिए से भारती इंफ्राटेल, ओबेराय रियल्टी, फिनिक्स मिल्स, हिंद ऑयल एक्सप्लोरेशन, एडवांटा और बांबे डाइंग की खरीदारी कर सकते हैं
स्पॉट निफ्टी को 6050 और 6060 के स्तर पर प्रतिरोध है और 5981 तथा 5918 के स्तर पर समर्थन है
क्रूड ऑयल में कमजोरी है और यह 90.60 डॉलर और 90.01 डॉलर के स्तर को आजमा सकता है

सकारात्मक वैश्विक और घरेलू संकेतों की वजह से पिछले हफ्ते शेयर बाजार में तेजी रही और प्रमुख सूचकांक लगभग 1.8 प्रतिशत की तेजी के साथ बंद हुए। मिड-कैप और स्मॉल-कैप सेक्टर क्रमश: 3.06 प्रतिशत और 3.72 प्रतिशत की बढ़त के साथ बंद हुए।


अगर विभिन्न सेक्टरों की बात करें तो एफएमसीजी को छोड़ कर शेष सभी सेक्टर बढ़त के साथ बंद हुए। एफएमसीजी सेक्टर में 0.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। लार्ज-कैप सेक्टर में ओएनजीसी और बीएचईएल का प्रदर्शन सबसे बेहतर रहा जिसमें क्रमश: 7.15 फीसदी और 6.92 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई।


पिछले सप्ताह आए कोर सेक्टर के आंकड़े, जिसमें आठ महत्वपूर्ण इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर शामिल हैं, नवंबर में घट कर 1.8 फीसदी पर आ गए जबकि एक साल पहले यह 7.8 प्रतिशत के स्तर पर था। इसका कारण यह बताया गया कि कोयल, सीमेंट और प्राकृतिक गैस जैसे सेक्टरों में नकारात्मक ग्रोथ हुआ। कोयले के उत्पादन में 4.4 प्रतिशत की कमी आई जबकि अक्टूबर में इसमें 10.9 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गई थी।


प्राकृतिक गैस के उत्पादन में .5.2 फीसदी की कमी दर्ज की गई जबकि अक्टूबर महीने में इसमें 14.9 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई थी। कुल मिला कर औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में इन आठ सेक्टरों की हिस्सेदारी 37.90 फीसदी है जो आंकड़ों में प्रदर्शित हो सकता है। इन सेक्टरों के अलावा बिजली, स्टील और पेट्रोलियम उत्पादों में भी मंदी देखी गई।


बढ़ते चालू खाता घाटे के लिए सोने का आयात एक खतरनाक कारक है। वित्त मंत्रालय सोने के आयात में कमी लाने के लिए विभिन्न कदम उठाने की योजना बना रही है। उद्देश्य एक ही है कि इसके आयात को महंगा किया जाए। भारतीय रिजर्व बैंक भी सोने के निवेशकों की दिलचस्पी कम करने की योजना बना रहा है। इसके लिए सोने का डीमैटेरियलाइजेशल और गोल्ड एक्युमुलेशन प्लान जैसे प्रोडक्ट की शुरुआत, गोल्ड लिंक्ड प्लान और मोडिफाइड गोल्ड डिपॉजिट और पेंशन प्रोडक्ट लाने की योजना है।


नकारात्मक आर्थिक आंकड़ों के बावजूद भारतीय शेयर बाजार के लिए राहत की बात यह रही है भारत का एचएसबीसी मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) दिसंबर के दौरान छह महीने में सबसे तेजी से बढ़ा। इसकी वजह फैक्ट्रियों का मजबूत उत्पादन और नये ऑर्डर में तेजी रही। दिसंबर महीने में पीएमआई 54.7 के स्तर पर रहा जबकि नवंबर में यह 53.7 के स्तर पर था। नये ऑर्डर छह महीने के शीर्ष पर रहे और परचेजिंग गतिविधियों में लगातार दिसंबर के दौरान की तेजी देखी गई।


गैस और ऑयल अनुबंधों को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए सरकार रंगराजन रिपोर्ट के साथ आई है जिसमें ऑपरेटर्स के साथ लाभ शेयर करने के लिए प्रोडक्ट लिंक्ड तरीके का सुझाव दिया गया है और एक्सप्लोरेशन की अवधि को सात से दस साल तक बढ़ाने का सुझाव भी दिया गया है। इस मॉडल में प्रोडक्शन शेयरिंग प्रणाली औसत दैनिक उत्पादन से जुड़ी होगी और तेल एवं गैस का मौजूदा औसत मूल्य एक अवधि तक के लिए तय होगा। इसके अलावा कॉस्ट रिकवरी मॉडल की समाप्ति कंपनियों के लिए इंसेंटिव की तरह होगा।


वैश्विक मोर्चे पर अमेरिकी फिस्कल क्लिफ, जिसका लंबे समय से इंतजार था, की खबर आई। बिल के मुताबिक जिन व्यक्तियों की आय 4,00,000 डॉलर से अधिक है और जिन युगलों की आय 4,50,000 डॉलर सालाना से अधिक है उन्हें 53 प्रतिशत की जगह 39.6 फीसदी का टैक्स देना होगा। लेकिन, दूसरी तरफ अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने कहा कि यह बांडों की खरीदारी में सुस्ती बरतेगा या 2013 में बांडों की खरीदारी वित्तीय स्थिरता को देखते हुए टाल देगा।


चीन के गैर-मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का पीएमआई दिसंबर माह में चार महीने के शीर्ष स्तर 56.1 पर पहुंच गया जो नवंबर में 55.6 के स्तर पर था। इससे चीन में सुधार के संकेत दिख रहे हैं।


क्रूड ऑयल में कमजोरी है और यह 90.60 डॉलर और 90.01 डॉलर के स्तर को आजमा सकता है। अगर यह 91.75 से ऊपर जाता है तो फिर 94 डॉलर या इससे ऊपर के स्तर को आजमा सकता है। रुपया 55.2870 और 56 के स्तर को अल्पावधि में आजमा सकता है और इसे 54.99 और 54.75 के स्तर पर प्रतिरोध है।


स्पॉट निफ्टी को 6050 और 6060 के स्तर पर प्रतिरोध है और 5981 तथा 5918 के स्तर पर समर्थन है।
निवेशक अल्पावधि के नजरिए से भारती इंफ्राटेल, ओबेराय रियल्टी, फिनिक्स मिल्स, हिंद ऑयल एक्सप्लोरेशन, एडवांटा और बांबे डाइंग की खरीदारी कर सकते हैं।
- लेखक जियोजित बीएनपी पारिबा फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 1

 
विज्ञापन
 

मार्केट

Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment