Home » Bazaar » Khabre Baazar Ki » Put Frozen Market Is Expected To Increase Stake

बाजार बढऩे के आसार जम कर लगाएं दांव

अजीत सिंह | Jan 07, 2013, 01:08AM IST
बाजार बढऩे के आसार जम कर लगाएं दांव

उम्मीदें
सरकार के पास इकोनॉमी मजबूत करने का समय
नई नीतियों से बाजार में मजबूती लाने की कोशिश होगी
कॉरपोरेट गवर्नेंस के कदमों से निवेशकों को मिलेगा फायदा
बाजार के जल्द ही 20000 पर पहुंचने की उम्मीद
निवेश सेंटिमेंट में सुधार का बाजार को फायदा

निर्मल बंग की सिफारिश
बजाज ऑटो
फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी
एचडीएफसी बैंक
ल्युपिन
अपोलो टायर्स
डेल्टा कॉर्प
हाईटेक गियर्स
आईएफबी इंडस्ट्रीज
इंडसइंड बैंक
इंडिया सीमेंट
जम्मू एवं कश्मीर बैंक
कर्नाटक बैंक
एमआरएफ
एनआईआईटी
सन फार्मा

आखिरकार सेंसेक्स पिछले हफ्ते के अंतिम कारोबारी दिन 19784 के अंक पर बंद हुआ है। इसका सीधा संकेत यह है कि अब सेंसेक्स 20,000 तक जाने में ज्यादा समय नहीं लगाएगा। सरकार के लिए महंगाई नियंत्रण, विकास आदि पर कदम उठाने के लिए तीन महीने का समय है। उसे अगले आम चुनाव तक के लिए काफी कुछ साबित करना होगा। यही कारण है कि सेंसेक्स के साथ-साथ विदेशी संस्थागत निवेश और अन्य साधनों से बाजार में तरलता बढ़ रही है। इसके अलावा इस हफ्ते से शुरू हो रहे तीसरी तिमाही के परिणाम और रिजर्व बैंक की ब्याज दरों में कटौती के संकेत भी बाजार को बढ़ावा देने में मजबूत भूमिका निभा सकते हैं।


इन शेयरों लगाएं दांव
इस बीच निर्मल बंग फाईनेंशियल सर्विसेज ने पिछली बार की तरह इस बार भी लॉर्ज कैप, मिड कैप और स्माल कैप के 15 ऐसे चुनिंदा स्टॉकों को निवेशकों के सामने पेश किया है, जिनमें अच्छा खासा रिटर्न मिल सकता है। पिछली बार इस ब्रोकरेज हाउस ने जिन भी 15 स्टॉकों को खरीदने की सलाह दी थी, उसमें महज दो स्टॉक ऐसे थे जिनमें निवेशकों को घाटा हुआ, पर बाकी के स्टॉक में 80 फीसदी तक का रिटर्न मिला है। इस तरह से कहा जा सकता है कि निवेशकों के लिए इस बार के स्टॉक भी अच्छे रिटर्न वाले साबित हो सकते हैं।


इस पूरे साल जिन स्टॉकों के चलने की संभावना इस ब्रोकरेज फर्म ने जताई है और अच्छे रिटर्न मिल सकते हैं उसमें बजाज ऑटो, फाईनेंशियल टेक्नोलोजी, एचडीएफसी बैंक, ल्युपिन, अपोलो टायर्स, डेल्टा कॉर्प, हाईटेक गियर्स, आईएफबी इंडस्ट्रीज, इंडसइंड बैंक, इंडिया सीमेंट, जम्मू एवं कश्मीर बैंक, कर्नाटक बैंक, एमआरएफ, एनआईआईटी और सन फार्मा जैसे स्टॉकों का बटुआ है।


बजाज ऑटो के शेयर का वर्तमान भाव 2204 रुपये, 52 हफ्ते के उच्च स्तर पर 228 रुपये और न्यूनतम 1410 रुपये, फाइनेंशियल टेक्नोलोजी के शेयर का वर्तमान भाव 1170 रुपये, उच्चतम 1223 और न्यूनतम 549 रुपये, एचडीएफसी बैंक के शेयर का वर्तमान भाव 679 रुपये, उच्चतम 705 और न्यूनतम 438 रुपये है।


इसी तरह अपोलो टायर्स के शेयरों का वर्तमान भाव 89 रुपये, उच्चतम 102 और न्यूनतम 61 रुपये, ल्युपिन के शेयरों का वर्तमान भाव 604 रुपये, उच्चतम 631 और न्यूनतम 412 रुपये, आईएफबी इंडस्ट्रीज के शेयरों का वर्तमान भाव 107 रुपये, उच्चतम स्तर पर 130,और न्यूनतम 60, इंडिया सीमेंट के शेयरों का वर्तमान भाव 91, उच्चतम स्तर पर 118 रुपये और न्यूनतम 67, इंडसइंड बैंक के शेयरों का वर्तमान भाव 430 रुपये, उच्चतम 437 और न्यूनतम 239 रुपये, जम्मू एवं कश्मीर बैंक के शेयरों का वर्तमान भाव 1320, उच्च स्तर पर 1473 और न्यूनतम 671, कर्नाटक बैंक के शेयरों का वर्तमान भाव 181 रुपये, उच्च स्तर पर 198 और न्यूनतम 69 रुपये तथा सन फार्मा के शेयरों का वर्तमान भाव 734, उच्च स्तर पर 775 तथा न्यूनतम 495 रुपये है।


निफ्टी पहुंच सकता है 6700 पर
सीएनआई रिसर्च के चेयरमैन किशोर ओस्तवाल कहते हैं कि यहां से निफ्टी की जो दिशा है, वह इस साल में 6700 तक जाने की लग रही है। उनके मुताबिक इस समय कुछ विश्लेषकों ने मीडिया रिपोर्ट के जरिये रिटेल निवेशकों को गुमराह करने की योजना बनाई है।
यह विश्लेषक निफ्टी के 8000 तक जाने की बात कह रहे हैं, जो गलत है। उनके मुताबिक बाजार इस समय सकारात्मक मूड में है और निवेश के लिए कुछ सेक्टर हैं, जिसमें निवेश किया जा सकता है।


जबकि निर्मल बंग फाइनेंशियल का मानना है कि निफ्टी इस साल में 2010 की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर सकता है। इस ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक फिस्कल क्लिफ, रिजर्व बैंक और केंद्रीय बजट पर बाजार की पूरी निगाह होगी।


एसएमसी गलोबल ने युनाइटेड बैंक, जेएसडब्ल्यू एनर्जी और पावर फाईनेंस जैसे स्टॉक को खरीदने की सलाह निवेशकों को दी है। युनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के शेयरों का वर्तमान भाव 83 रुपये, 52 हफ्ते के उच्च स्तर पर 87 रुपये, न्यूनतम 45 रुपये, जेएसडब्ल्यू एनर्जी के शेयरों का वर्तमान बाव 68 रुपये, उच्चतम स्र पर 76 और न्यूनतम 38 रुपये, तथा पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन के शेयरों का वर्तमान भाव 211 रुपये, उच्च स्तर पर 223 और न्यूनतम 139 रुपये है।


कॉरपोरेट गवर्नेंस पर जोर से फायदा
उधर पूंजी बाजार नियामक सेबी ने जिस तरह से कॉरपोरेट गवर्नेंस पर जोर दिया है और कंपनियों के  मुख्य कार्यकारी अधिकारियों या शीर्ष अधिकारी क वेतन पैकेज, स्वतंत्र निदेशकों के इस्तीफे और छोटे निवेशकों को अधिक अधिकार देने की बात कही है, उससे आनेवाले दिनों में कॉरपोरेट सेक्टर में फ्रॉड या निवेशकों को लगाए जानेवाले चूने पर लगाम लग सकती है।


स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध कंपनियों में से तो 2000 कंपनियां ऐसी हैं, जो निलंबित हैं और इसमें निवेशकों के 65 हजार करोड़ रुपये फंसे हैं। इस तरह अगर सेबी ने कॉरपोरेट गवर्नेंस को मजबूत बनाया और निवेशकों को अधिक अधिकार दिया तो इसका फायदा निवेशकों को हो सकता है। 2012 की तीसरी तिमाही तक बाजार भले अच्छा चला हो और निवेशकों को रिटर्न मिला हो, पर पहली छमाही में निवेशकों ने काफी रकम डुबोई है। हालांकि हो सकता है कि इस साल मेंं बाजार में निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिल जाए।


बेहतर रहेगा बाजार
रिलायंस कैपिटल एसेट मैनेजमेंट के इक्विटी हेड सुनील ंिसघानिया कहते हैं कि 2008 के आर्थिक धीमेपन के बाद अब जाकर शेयर बाजार ने मजबूत वापसी की है। उनके मुताबिक इस साल में सरकार निवेश सेंटीमेंट में सुधार कर रही है और हाल के आर्थिक सुधार कार्यक्रमों के कारण उम्मीद है कि इक्विटी बाजार इस साल अच्छा प्रदर्शन करेंगा।


उनके मुताबिक एफएमसीजी और फार्मा सेक्टर निवेशकों के लिए रक्षात्मक हो सकते हैं। उनका मानना है कि ब्याज दर संवेदनशील स्टॉक और कैपेक्स तथा विकास वाले सेक्टर जैसे पावर, ऑटो, बैंक आदि अच्छे चलेंगे।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 2

 
विज्ञापन
 

मार्केट

Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment