Home » Commodity » Kismein Munafa Kismien Ghata » Rice Exports Will Remain At The Forefront Of India

चावल निर्यात में सबसे आगे नहीं रहेगा भारत

बिजनेस ब्यूरो | Jan 07, 2013, 00:16AM IST

नई दिल्ली - इस साल भारत से चावल का निर्यात करीब 30 फीसदी घटने से विश्व बाजार में इसका सबसे बड़ा निर्यातक होने का स्थान छिन सकता है। सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर सलाह देने वाले कृषि मूल्य एवं लागत आयोग (सीएसीपी) ने कहा है इस साल चावल निर्यात घटकर 70 लाख टन रहने का अनुमान है।


पिछले साल 2012 के दौरान भारत सबसे बड़ा चावल निर्यातक देश बनकर उभरा था। वह थाईलैंड को पीछे धकेलकर सबसे बड़ा चावल निर्यात देश बना। पिछले साल भारत से 100 लाख टन चावल का निर्यात किया गया। वर्ष 2011 के दौरान भारत चावल निर्यात के मामले में तीसरे स्थान पर रहा था। सीएसीपी के चेयरमैन अशोक गुलाटी ने कहा कि इस साल भारत से 70 लाख टन से ज्यादा चावल का निर्यात नहीं हो पाएगा। (प्रेट्र)

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
10 + 9

 
विज्ञापन
 

मार्केट

Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment