Home » Business Gyan » What Is The Commercial Paper

क्या है कॉमर्शियल पेपर

बिजनेस भास्कर नई दिल्ली | Dec 19, 2012, 00:21AM IST
क्या है कॉमर्शियल पेपर

कॉमर्शियल पेपर गारंटी रहित मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट है, जो प्रॉमिसरी नोट के तौर पर जारी किए जाते हैं। भारत में इसकी शुरुआत 1990 में हुई थी। दरअसल इसकी शुरुआत कॉरपोरेट कंपनियों की ऋण जरूरतों को पूरा करने के लिए की गई थी। बैंक के अलावा अन्य ोतों से ऋण जुटाने में कॉमर्शियल पेपर कंपनियों की मदद करते हैं।


इसके बाद, प्राइमरी डीलर और अखिल भारतीय वित्तीय संस्थानों को कॉमर्शियल पेपर जारी करने की अनुमति दे दी गई थी। कंपनियों के परिचालन के लिए जरूरी कम अवधि के ऋण जुटाने में कॉमर्शियल पेपर काफी मददगार साबित होते हैं।


कोई कंपनी तभी कॉमर्शियल पेपर जारी कर सकती है, जब ऑडिट के बाद ताजा बैलेंसशीट में कंपनी की नेटवर्थ चार करोड़ रुपये से कम न हो। कंपनी को वित्तीय संस्थान या बैंक से वर्किंग कैपिटल लिमिट दी गई हो। कॉमर्शियल पेपर की रेटिंग भी होती है। कॉमर्शियल पेपर जारी करने वाली सभी कंपनियों को क्रिसिल या इक्रा रेटिंग एजेंसियों से इसकी रेटिंग करवानी पड़ती है। केयर और फिट रेटिंग जैसी एजेंसियां भी इनकी रेटिंग करती हैं।


कॉमर्शियल पेपर की न्यूनतम मेच्योरिटी अवधि सात दिन की और अधिकतम जारी किए जाने से लेकर एक साल तक के लिए है। हालांकि कॉमर्शियल पेपर की मेच्योरिटी उस अवधि से ज्यादा नहीं होनी चाहिए, जब तक के लिए क्रेडिट रेटिंग मान्य है। कॉमर्शियल पेपर पांच लाख रुपये या इसके गुणज में जारी किए जा सकते हैं। कॉमर्शियल पेपर किसी खास दिन या अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तारीखों में भी जारी किये जा सकते हैं।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
1 + 3

 
विज्ञापन
 

मार्केट

Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment